waan vo to ghar se apne pee kar sharaab nikla | वाँ वो तो घर से अपने पी कर शराब निकला - Meer Taqi Meer

waan vo to ghar se apne pee kar sharaab nikla
yaa sharm se arq mein doob aftaab nikla

aaya jo waqie mein darpaish aalam-e-marg
ye jaagna hamaara dekha to khwaab nikla

dekha jo os padte gulshan mein ham to aakhir
gul ka vo roo-e-khandaan chashm-e-pur-aab nikla

parde hi mein chala ja khurshid to hai behtar
ik hashr hai jo ghar se vo be-hijaab nikla

kuchh der hi lagi na dil ko to teer lagte
us said-e-naatwaan ka kya jee shitaab nikla

har harf-e-gham ne mere majlis ke tai rulaaya
goya ghubaar dil ka padhta kitaab nikla

roo-e-arq-fishaan ko bas ponch garm mat ho
us gul mein kya rahega jis ka gulaab nikla

mutlaq na e'tinaa ki ahvaal par hamaare
naame ka naame hi mein sab pech-o-taab nikla

shaan-e-taghaful apne nau-khat ki kya likhen ham
qaasid mua tab us ke munh se jawaab nikla

kis ki nigaah ki gardish thi meer roo-b-masjid
mehraab mein se zaahid mast-o-kharaab nikla

वाँ वो तो घर से अपने पी कर शराब निकला
याँ शर्म से अरक़ में डूब आफ़्ताब निकला

आया जो वाक़िए में दरपेश आलम-ए-मर्ग
ये जागना हमारा देखा तो ख़्वाब निकला

देखा जो ओस पड़ते गुलशन में हम तो आख़िर
गुल का वो रू-ए-ख़ंदाँ चश्म-ए-पुर-आब निकला

पर्दे ही में चला जा ख़ुर्शीद तो है बेहतर
इक हश्र है जो घर से वो बे-हिजाब निकला

कुछ देर ही लगी न दिल को तो तीर लगते
उस सैद-ए-नातवाँ का क्या जी शिताब निकला

हर हर्फ़-ए-ग़म ने मेरे मज्लिस के तईं रुलाया
गोया ग़ुबार दिल का पढ़ता किताब निकला

रू-ए-अरक़-फ़िशाँ को बस पोंछ गर्म मत हो
उस गुल में क्या रहेगा जिस का गुलाब निकला

मुतलक़ न ए'तिना की अहवाल पर हमारे
नामे का नामे ही में सब पेच-ओ-ताब निकला

शान-ए-तग़ाफ़ुल अपने नौ-ख़त की क्या लिखें हम
क़ासिद मुआ तब उस के मुँह से जवाब निकला

किस की निगह की गर्दिश थी 'मीर' रू-ब-मस्जिद
मेहराब में से ज़ाहिद मस्त-ओ-ख़राब निकला

- Meer Taqi Meer
0 Likes

Fantasy Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Fantasy Shayari Shayari