sab kahaan kuchh laala-o-gul mein numayaan ho gaeein | सब कहाँ कुछ लाला-ओ-गुल में नुमायाँ हो गईं - Mirza Ghalib

sab kahaan kuchh laala-o-gul mein numayaan ho gaeein
khaak mein kya sooraten hongi ki pinhaan ho gaeein

yaad theen ham ko bhi ranga-rang bazm-aaraaiyaan
lekin ab naqsh-o-nigaar-e-taaq-e-nisyaan ho gaeein

theen banaat-un-naash-e-gardun din ko parde mein nihaan
shab ko un ke jee mein kya aayi ki uryaan ho gaeein

qaid mein yaqoob ne li go na yusuf ki khabar
lekin aankhen rauzan-e-deewaar-e-zindaan ho gaeein

sab raqeebon se hon na-khush par zanaan-e-misr se
hai zulekha khush ki mahw-e-maah-e-kanaan ho gaeein

joo-e-khoon aankhon se bahne do ki hai shaam-e-firaq
main ye samjhoonga ki shamaein do farozaan ho gaeein

in pari-zaadon se lenge khuld mein ham intiqaam
qudrat-e-haq se yahi hooren agar waan ho gaeein

neend us ki hai dimaagh us ka hai raatein us ki hain
teri zulfen jis ke baazu par pareshaan ho gaeein

main chaman mein kya gaya goya dabistaan khul gaya
bulbulein sun kar mere naale ghazal-khwaan ho gaeein

vo nigaahen kyun hui jaati hain ya-rab dil ke paar
jo meri kotaahi-e-qismat se mizgaan ho gaeein

bas-ki roka main ne aur seene mein ubhri pai-b-pai
meri aahen bakhiya-e-chaak-e-garebaan ho gaeein

waan gaya bhi main to un ki gaaliyon ka kya jawaab
yaad theen jitni duaaein sarf-e-darbaan ho gaeein

jaan-fiza hai baada jis ke haath mein jaam aa gaya
sab lakeeren haath ki goya rag-e-jaan ho gaeein

ham muwahhid hain hamaara kesh. hai tark-e-roosoom
millatein jab mit gaeein ajzaa-e-eimaan ho gaeein

ranj se khugar hua insaan to mit jaata hai ranj
mushkilein mujh par padeen itni ki aasaan ho gaeein

yun hi gar rota raha ghalib to ai ahl-e-jahaan
dekhna in bastiyon ko tum ki veeraan ho gaeein

सब कहाँ कुछ लाला-ओ-गुल में नुमायाँ हो गईं
ख़ाक में क्या सूरतें होंगी कि पिन्हाँ हो गईं

याद थीं हम को भी रंगा-रंग बज़्म-आराईयाँ
लेकिन अब नक़्श-ओ-निगार-ए-ताक़-ए-निस्याँ हो गईं

थीं बनात-उन-नाश-ए-गर्दुं दिन को पर्दे में निहाँ
शब को उन के जी में क्या आई कि उर्यां हो गईं

क़ैद में याक़ूब ने ली गो न यूसुफ़ की ख़बर
लेकिन आँखें रौज़न-ए-दीवार-ए-ज़िंदाँ हो गईं

सब रक़ीबों से हों ना-ख़ुश पर ज़नान-ए-मिस्र से
है ज़ुलेख़ा ख़ुश कि महव-ए-माह-ए-कनआँ हो गईं

जू-ए-ख़ूँ आँखों से बहने दो कि है शाम-ए-फ़िराक़
मैं ये समझूँगा कि शमएँ दो फ़रोज़ाँ हो गईं

इन परी-ज़ादों से लेंगे ख़ुल्द में हम इंतिक़ाम
क़ुदरत-ए-हक़ से यही हूरें अगर वाँ हो गईं

नींद उस की है दिमाग़ उस का है रातें उस की हैं
तेरी ज़ुल्फ़ें जिस के बाज़ू पर परेशाँ हो गईं

मैं चमन में क्या गया गोया दबिस्ताँ खुल गया
बुलबुलें सुन कर मिरे नाले ग़ज़ल-ख़्वाँ हो गईं

वो निगाहें क्यूँ हुई जाती हैं या-रब दिल के पार
जो मिरी कोताही-ए-क़िस्मत से मिज़्गाँ हो गईं

बस-कि रोका मैं ने और सीने में उभरीं पै-ब-पै
मेरी आहें बख़िया-ए-चाक-ए-गरेबाँ हो गईं

वाँ गया भी मैं तो उन की गालियों का क्या जवाब
याद थीं जितनी दुआएँ सर्फ़-ए-दरबाँ हो गईं

जाँ-फ़िज़ा है बादा जिस के हाथ में जाम आ गया
सब लकीरें हाथ की गोया रग-ए-जाँ हो गईं

हम मुवह्हिद हैं हमारा केश है तर्क-ए-रूसूम
मिल्लतें जब मिट गईं अजज़ा-ए-ईमाँ हो गईं

रंज से ख़ूगर हुआ इंसाँ तो मिट जाता है रंज
मुश्किलें मुझ पर पड़ीं इतनी कि आसाँ हो गईं

यूँ ही गर रोता रहा 'ग़ालिब' तो ऐ अहल-ए-जहाँ
देखना इन बस्तियों को तुम कि वीराँ हो गईं

- Mirza Ghalib
0 Likes

Mehndi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Mirza Ghalib

As you were reading Shayari by Mirza Ghalib

Similar Writers

our suggestion based on Mirza Ghalib

Similar Moods

As you were reading Mehndi Shayari Shayari