ma'arka ab ke hua bhi to phir aisa hoga | मा'रका अब के हुआ भी तो फिर ऐसा होगा - Mohsin Naqvi

ma'arka ab ke hua bhi to phir aisa hoga
tere dariya pe meri pyaas ka pahra hoga

us ki aankhen tire chehre pe bahut bolti hain
us ne palkon se tira jism tarasha hoga

kitne jugnoo isee khwaahish mein mere saath chale
koi rasta tire ghar ko bhi to jaata hoga

main bhi apne ko bhulaaye hue firta hoon bahut
aaina us ne bhi kuchh roz na dekha hoga

raat jal-thal meri aankhon mein utar aaya tha
soorat-e-abr koi toot ke barsa hoga

ye masihaai use bhool gai hai mohsin
ya phir aisa hai mera zakham hi gahra hoga

मा'रका अब के हुआ भी तो फिर ऐसा होगा
तेरे दरिया पे मिरी प्यास का पहरा होगा

उस की आँखें तिरे चेहरे पे बहुत बोलती हैं
उस ने पलकों से तिरा जिस्म तराशा होगा

कितने जुगनू इसी ख़्वाहिश में मिरे साथ चले
कोई रस्ता तिरे घर को भी तो जाता होगा

मैं भी अपने को भुलाए हुए फिरता हूँ बहुत
आइना उस ने भी कुछ रोज़ न देखा होगा

रात जल-थल मिरी आँखों में उतर आया था
सूरत-ए-अब्र कोई टूट के बरसा होगा

ये मसीहाई उसे भूल गई है 'मोहसिन'
या फिर ऐसा है मिरा ज़ख़्म ही गहरा होगा

- Mohsin Naqvi
1 Like

Ghar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Mohsin Naqvi

As you were reading Shayari by Mohsin Naqvi

Similar Writers

our suggestion based on Mohsin Naqvi

Similar Moods

As you were reading Ghar Shayari Shayari