bhula paana bahut mushkil hai sab kuch yaad rehta hai | भुला पाना बहुत मुश्किल है सब कुछ याद रहता है - Munawwar Rana

bhula paana bahut mushkil hai sab kuch yaad rehta hai
mohabbat karne waala is liye barbaad rehta hai

agar sone ke pinjade mein bhi rehta hai to qaaidi hai
parinda to wahi hota hai jo azaad rehta hai

chaman mein ghoomne firne ke kuch aadaab hote hain
udhar hargiz nahin jaana udhar sayyaad rehta hai

lipt jaati hai saare raaston ki yaad bachpan mein
jidhar se bhi guzarta hoonmain rasta yaad rehta hai

humein bhi apne achhe din abhi tak yaad hain raana
har ik insaan ko apna zamaana yaad rehta hai

भुला पाना बहुत मुश्किल है सब कुछ याद रहता है
मोहब्बत करने वाला इस लिए बरबाद रहता है

अगर सोने के पिंजड़े में भी रहता है तो क़ैदी है
परिंदा तो वही होता है जो आज़ाद रहता है

चमन में घूमने फिरने के कुछ आदाब होते हैं
उधर हरगिज़ नहीं जाना उधर सय्याद रहता है

लिपट जाती है सारे रास्तों की याद बचपन में
जिधर से भी गुज़रता हूंमैं रस्ता याद रहता है

हमें भी अपने अच्छे दिन अभी तक याद हैं 'राना'
हर इक इंसान को अपना ज़माना याद रहता है

- Munawwar Rana
4 Likes

Gulshan Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Munawwar Rana

As you were reading Shayari by Munawwar Rana

Similar Writers

our suggestion based on Munawwar Rana

Similar Moods

As you were reading Gulshan Shayari Shayari