ham kuchh aise tire deedaar mein kho jaate hain | हम कुछ ऐसे तिरे दीदार में खो जाते हैं - Munawwar Rana

ham kuchh aise tire deedaar mein kho jaate hain
jaise bacche bhare bazaar mein kho jaate hain

mustaqil joojhna yaadon se bahut mushkil hai
rafta rafta sabhi ghar-baar mein kho jaate hain

itna saanson ki rifaqat pe bharosa na karo
sab ke sab mitti ke ambaar mein kho jaate hain

meri khuddaari ne ehsaan kiya hai mujh par
warna jo jaate hain darbaar mein kho jaate hain

dhoondne roz nikalte hain masaail ham ko
roz ham surkhi-e-akhbaar mein kho jaate hain

kya qayamat hai ki seharaaon ke rahne waale
apne ghar ke dar-o-deewar mein kho jaate hain

kaun phir aise mein tanqeed karega tujh par
sab tire jubbaa-o-dastaar mein kho jaate hain

हम कुछ ऐसे तिरे दीदार में खो जाते हैं
जैसे बच्चे भरे बाज़ार में खो जाते हैं

मुस्तक़िल जूझना यादों से बहुत मुश्किल है
रफ़्ता रफ़्ता सभी घर-बार में खो जाते हैं

इतना साँसों की रिफ़ाक़त पे भरोसा न करो
सब के सब मिट्टी के अम्बार में खो जाते हैं

मेरी ख़ुद्दारी ने एहसान किया है मुझ पर
वर्ना जो जाते हैं दरबार में खो जाते हैं

ढूँढने रोज़ निकलते हैं मसाइल हम को
रोज़ हम सुर्ख़ी-ए-अख़बार में खो जाते हैं

क्या क़यामत है कि सहराओं के रहने वाले
अपने घर के दर-ओ-दीवार में खो जाते हैं

कौन फिर ऐसे में तन्क़ीद करेगा तुझ पर
सब तिरे जुब्बा-ओ-दस्तार में खो जाते हैं

- Munawwar Rana
0 Likes

Deedar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Munawwar Rana

As you were reading Shayari by Munawwar Rana

Similar Writers

our suggestion based on Munawwar Rana

Similar Moods

As you were reading Deedar Shayari Shayari