vo bichhad kar bhi kahaan mujh se juda hota hai | वो बिछड़ कर भी कहाँ मुझ से जुदा होता है - Munawwar Rana

vo bichhad kar bhi kahaan mujh se juda hota hai
ret par os se ik naam likha hota hai

khaak aankhon se lagaaee to ye ehsaas hua
apni mitti se har ik shakhs juda hota hai

saari duniya ka safar khwaab mein kar daala hai
koi manzar ho mera dekha hua hota hai

main bhulaana bhi nahin chahta is ko lekin
mustaqil zakham ka rahna bhi bura hota hai

khauf mein doobe hue shehar ki qismat hai yahi
muntazir rehta hai har shakhs ki kya hota hai

वो बिछड़ कर भी कहाँ मुझ से जुदा होता है
रेत पर ओस से इक नाम लिखा होता है

ख़ाक आँखों से लगाई तो ये एहसास हुआ
अपनी मिट्टी से हर इक शख़्स जुड़ा होता है

सारी दुनिया का सफ़र ख़्वाब में कर डाला है
कोई मंज़र हो मिरा देखा हुआ होता है

मैं भुलाना भी नहीं चाहता इस को लेकिन
मुस्तक़िल ज़ख़्म का रहना भी बुरा होता है

ख़ौफ़ में डूबे हुए शहर की क़िस्मत है यही
मुंतज़िर रहता है हर शख़्स कि क्या होता है

- Munawwar Rana
3 Likes

Hijr Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Munawwar Rana

As you were reading Shayari by Munawwar Rana

Similar Writers

our suggestion based on Munawwar Rana

Similar Moods

As you were reading Hijr Shayari Shayari