chale maqtal ki jaanib aur chaati khol di ham ne | चले मक़्तल की जानिब और छाती खोल दी हम ने - Munawwar Rana

chale maqtal ki jaanib aur chaati khol di ham ne
badhaane par patang aaye to charkhi khol di ham ne

pada rahne do apne boriye par ham faqeeron ko
fati rah jaayengi aankhen jo mutthi khol di ham ne

kahaan tak bojh baisakhi ka saari zindagi dhote
utarte hi kuein mein aaj rassi khol di ham ne

farishto tum kahaan tak naama-e-aamaal dekhoge
chalo ye nekiyaan gin lo ki gathri khol di ham ne

tumhaara naam aaya aur ham takne lage rasta
tumhaari yaad aayi aur khidki khol di ham ne

purane ho chale the zakham saare aarzooon ke
kaho charagaron se aaj patti khol di ham ne

tumhaare dukh uthaaye is liye firte hain muddat se
tumhaare naam aayi thi jo chitthi khol di ham ne

चले मक़्तल की जानिब और छाती खोल दी हम ने
बढ़ाने पर पतंग आए तो चर्ख़ी खोल दी हम ने

पड़ा रहने दो अपने बोरिए पर हम फ़क़ीरों को
फटी रह जाएँगी आँखें जो मुट्ठी खोल दी हम ने

कहाँ तक बोझ बैसाखी का सारी ज़िंदगी ढोते
उतरते ही कुएँ में आज रस्सी खोल दी हम ने

फ़रिश्तो तुम कहाँ तक नामा-ए-आमाल देखोगे
चलो ये नेकियाँ गिन लो कि गठरी खोल दी हम ने

तुम्हारा नाम आया और हम तकने लगे रस्ता
तुम्हारी याद आई और खिड़की खोल दी हम ने

पुराने हो चले थे ज़ख़्म सारे आरज़ूओं के
कहो चारागरों से आज पट्टी खोल दी हम ने

तुम्हारे दुख उठाए इस लिए फिरते हैं मुद्दत से
तुम्हारे नाम आई थी जो चिट्ठी खोल दी हम ने

- Munawwar Rana
2 Likes

Sad Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Munawwar Rana

As you were reading Shayari by Munawwar Rana

Similar Writers

our suggestion based on Munawwar Rana

Similar Moods

As you were reading Sad Shayari Shayari