saari daulat tire qadmon mein padi lagti hai | सारी दौलत तिरे क़दमों में पड़ी लगती है - Munawwar Rana

saari daulat tire qadmon mein padi lagti hai
tu jahaan hota hai qismat bhi gadi lagti hai

aise roya tha bichhadte hue vo shakhs kabhi
jaise saawan ke maheene mein jhadi lagti hai

ham bhi apne ko badal daalenge rafta rafta
abhi duniya hamein jannat se badi lagti hai

khushnuma lagte hain dil par tire zakhamon ke nishaan
beech deewaar mein jis tarah ghadi lagti hai

tu mere saath agar hai to andhera kaisa
raat khud chaand sitaaron se jadi lagti hai

main rahoon ya na rahoon naam rahega mera
zindagi umr mein kuchh mujh se badi lagti hai

सारी दौलत तिरे क़दमों में पड़ी लगती है
तू जहाँ होता है क़िस्मत भी गड़ी लगती है

ऐसे रोया था बिछड़ते हुए वो शख़्स कभी
जैसे सावन के महीने में झड़ी लगती है

हम भी अपने को बदल डालेंगे रफ़्ता रफ़्ता
अभी दुनिया हमें जन्नत से बड़ी लगती है

ख़ुशनुमा लगते हैं दिल पर तिरे ज़ख़्मों के निशाँ
बीच दीवार में जिस तरह घड़ी लगती है

तू मिरे साथ अगर है तो अंधेरा कैसा
रात ख़ुद चाँद सितारों से जड़ी लगती है

मैं रहूँ या न रहूँ नाम रहेगा मेरा
ज़िंदगी उम्र में कुछ मुझ से बड़ी लगती है

- Munawwar Rana
3 Likes

Duniya Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Munawwar Rana

As you were reading Shayari by Munawwar Rana

Similar Writers

our suggestion based on Munawwar Rana

Similar Moods

As you were reading Duniya Shayari Shayari