nahin tha koi gila aag ko rawaani se | नहीं था कोई गिला आग को रवानी से - Pallav Mishra

nahin tha koi gila aag ko rawaani se
hawa thi jis ne liya intiqaam paani se

payaam aate rahe jaa-e-la-makaani se
gaya na koi jawaab is sara-e-faani se

kahaan ke dasht qadamat hi kho gai ab to
pale-badhe hain ye shehron ki meherbaani se

hayaat phir se chali ladkhada ke masti mein
sambhal gai thi kisi marg-e-na-gahaani se

fahar ke paal khuli naav ki sar-e-mastool
safeer taaza hue baad-e-baadbaani se

hata na leejiyo mehfil mein mujh se apni nigaah
nishista hoon main isee baar ki giraani se

junoon mera karishma hai ai khuda mera naam
juda hi rakh kisi ummat ki raaegaani se

नहीं था कोई गिला आग को रवानी से
हवा थी जिस ने लिया इंतिक़ाम पानी से

पयाम आते रहे जा-ए-ला-मकानी से
गया न कोई जवाब इस सरा-ए-फ़ानी से

कहाँ के दश्त क़दामत ही खो गई अब तो
पले-बढ़े हैं ये शहरों की मेहरबानी से

हयात फिर से चली लड़खड़ा के मस्ती में
सँभल गई थी किसी मर्ग-ए-ना-गहानी से

फहर के पाल खुली नाव की सर-ए-मस्तूल
सफ़ीर ताज़ा हुए बाद-ए-बादबानी से

हटा न लीजियो महफ़िल में मुझ से अपनी निगह
निशिस्ता हूँ मैं इसी बार की गिरानी से

जुनून मेरा करिश्मा है ऐ ख़ुदा मिरा नाम
जुदा ही रख किसी उम्मत की राएगानी से

- Pallav Mishra
0 Likes

Khushboo Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Pallav Mishra

As you were reading Shayari by Pallav Mishra

Similar Writers

our suggestion based on Pallav Mishra

Similar Moods

As you were reading Khushboo Shayari Shayari