darte the usi sabza-e-aabaai se pehle | डरते थे उसी सब्ज़ा-ए-आबाई से पहले - Pallav Mishra

darte the usi sabza-e-aabaai se pehle
chehre pe masen phoot padeen kaai se pehle

phir aankhon ne takhleeq ke samaan jutaaye
ham tujh se mile the tiri raanaai se pehle

sunte hain shuaaein hain sadaaon se subuk-gaam
beenaai chali jaati hai goyaai se pehle

aur ab tiri parchhaaien ke charche hain sabhi or
kya dhoop khili thi tiri angadaai se pehle

pachhim ki hawa le gai pachhim se hamein door
poorab ki taraf udte the purbaai se pehle

himmat se siva taab nadaamat mein hai yaaro
ham doob gaye paani ki gehraai se pehle

डरते थे उसी सब्ज़ा-ए-आबाई से पहले
चेहरे पे मसें फूट पड़ीं काई से पहले

फिर आँखों ने तख़्लीक़ के सामान जुटाए
हम तुझ से मिले थे तिरी रानाई से पहले

सुनते हैं शुआएँ हैं सदाओं से सुबुक-गाम
बीनाई चली जाती है गोयाई से पहले

और अब तिरी परछाईं के चर्चे हैं सभी ओर
क्या धूप खिली थी तिरी अंगड़ाई से पहले

पच्छिम की हवा ले गई पच्छिम से हमें दूर
पूरब की तरफ़ उड़ते थे पुरबाई से पहले

हिम्मत से सिवा ताब नदामत में है यारो
हम डूब गए पानी की गहराई से पहले

- Pallav Mishra
0 Likes

Kashti Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Pallav Mishra

As you were reading Shayari by Pallav Mishra

Similar Writers

our suggestion based on Pallav Mishra

Similar Moods

As you were reading Kashti Shayari Shayari