gawaahi kaise tootti mua'amla khuda ka tha | गवाही कैसे टूटती मुआ'मला ख़ुदा का था - Parveen Shakir

gawaahi kaise tootti mua'amla khuda ka tha
mera aur us ka raabta to haath aur dua ka tha

gulaab qiimat-e-shagufta shaam tak chuka sake
ada vo dhoop ko hua jo qarz bhi saba ka tha

bikhar gaya hai phool to humeen se pooch-gach hui
hisaab baagbaan se hai kiya-dhara hawa ka tha

lahu-chasheeda haath us ne choom kar dikha diya
jazaa wahan mili jahaan ki marhala saza ka tha

jo baarishon se qibl apna rizq ghar mein bhar chuka
vo shehr-e-mor se na tha p doorbeen bala ka tha

गवाही कैसे टूटती मुआ'मला ख़ुदा का था
मिरा और उस का राब्ता तो हाथ और दुआ का था

गुलाब क़ीमत-ए-शगुफ़्त शाम तक चुका सके
अदा वो धूप को हुआ जो क़र्ज़ भी सबा का था

बिखर गया है फूल तो हमीं से पूछ-गछ हुई
हिसाब बाग़बाँ से है किया-धरा हवा का था

लहू-चशीदा हाथ उस ने चूम कर दिखा दिया
जज़ा वहाँ मिली जहाँ कि मरहला सज़ा का था

जो बारिशों से क़ब्ल अपना रिज़्क़ घर में भर चुका
वो शहर-ए-मोर से न था प दूरबीं बला का था

- Parveen Shakir
1 Like

Environment Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Parveen Shakir

As you were reading Shayari by Parveen Shakir

Similar Writers

our suggestion based on Parveen Shakir

Similar Moods

As you were reading Environment Shayari Shayari