teri khushboo ka pata karti hai | तेरी ख़ुश्बू का पता करती है - Parveen Shakir

teri khushboo ka pata karti hai
mujh pe ehsaan hawa karti hai

choom kar phool ko aahista se
mojza baad-e-saba karti hai

khol kar band-e-qaba gul ke hawa
aaj khushboo ko rihaa karti hai

abr barsate to inaayat us ki
shaakh to sirf dua karti hai

zindagi phir se fazaa mein raushan
mishal-e-barg-e-hina karti hai

ham ne dekhi hai vo ujli saaat
raat jab sher kaha karti hai

shab ki tanhaai mein ab to akshar
guftugoo tujh se raha karti hai

dil ko us raah pe chalna hi nahin
jo mujhe tujh se juda karti hai

zindagi meri thi lekin ab to
tere kehne mein raha karti hai

us ne dekha hi nahin warna ye aankh
dil ka ahvaal kaha karti hai

musahaf-e-dil pe ajab rangon mein
ek tasveer bana karti hai

be-niyaaz-e-kaf-e-dariya angusht
ret par naam likha karti hai

dekh tu aan ke chehra mera
ik nazar bhi tiri kya karti hai

zindagi bhar ki ye taakheer apni
ranj milne ka siva karti hai

shaam padte hi kisi shakhs ki yaad
koocha-e-jaan mein sada karti hai

mas'ala jab bhi charaagon ka utha
faisla sirf hawa karti hai

mujh se bhi us ka hai waisa hi sulook
haal jo tera ana karti hai

dukh hua karta hai kuchh aur bayaan
baat kuchh aur hua karti hai

तेरी ख़ुश्बू का पता करती है
मुझ पे एहसान हवा करती है

चूम कर फूल को आहिस्ता से
मोजज़ा बाद-ए-सबा करती है

खोल कर बंद-ए-क़बा गुल के हवा
आज ख़ुश्बू को रिहा करती है

अब्र बरसते तो इनायत उस की
शाख़ तो सिर्फ़ दुआ करती है

ज़िंदगी फिर से फ़ज़ा में रौशन
मिशअल-ए-बर्ग-ए-हिना करती है

हम ने देखी है वो उजली साअत
रात जब शेर कहा करती है

शब की तन्हाई में अब तो अक्सर
गुफ़्तुगू तुझ से रहा करती है

दिल को उस राह पे चलना ही नहीं
जो मुझे तुझ से जुदा करती है

ज़िंदगी मेरी थी लेकिन अब तो
तेरे कहने में रहा करती है

उस ने देखा ही नहीं वर्ना ये आँख
दिल का अहवाल कहा करती है

मुसहफ़-ए-दिल पे अजब रंगों में
एक तस्वीर बना करती है

बे-नियाज़-ए-कफ़-ए-दरिया अंगुश्त
रेत पर नाम लिखा करती है

देख तू आन के चेहरा मेरा
इक नज़र भी तिरी क्या करती है

ज़िंदगी भर की ये ताख़ीर अपनी
रंज मिलने का सिवा करती है

शाम पड़ते ही किसी शख़्स की याद
कूचा-ए-जाँ में सदा करती है

मसअला जब भी चराग़ों का उठा
फ़ैसला सिर्फ़ हवा करती है

मुझ से भी उस का है वैसा ही सुलूक
हाल जो तेरा अना करती है

दुख हुआ करता है कुछ और बयाँ
बात कुछ और हुआ करती है

- Parveen Shakir
4 Likes

Yaad Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Parveen Shakir

As you were reading Shayari by Parveen Shakir

Similar Writers

our suggestion based on Parveen Shakir

Similar Moods

As you were reading Yaad Shayari Shayari