qaid mein guzregi jo umr bade kaam ki thi | क़ैद में गुज़रेगी जो उम्र बड़े काम की थी - Parveen Shakir

qaid mein guzregi jo umr bade kaam ki thi
par main kya karti ki zanjeer tire naam ki thi

jis ke maathe pe mere bakht ka taara chamka
chaand ke doobne ki baat usi shaam ki thi

main ne haathon ko hi patwaar banaya warna
ek tooti hui kashti mere kis kaam ki thi

vo kahaani ki abhi sooiyan nikliin bhi na theen
fikr har shakhs ko shehzaadi ke anjaam ki thi

ye hawa kaise uda le gai aanchal mera
yun sataane ki to aadat mere ghanshyaam ki thi

bojh uthaate hue phirti hai hamaara ab tak
ai zameen-maaan tiri ye umr to aaraam ki thi

क़ैद में गुज़रेगी जो उम्र बड़े काम की थी
पर मैं क्या करती कि ज़ंजीर तिरे नाम की थी

जिस के माथे पे मिरे बख़्त का तारा चमका
चाँद के डूबने की बात उसी शाम की थी

मैं ने हाथों को ही पतवार बनाया वर्ना
एक टूटी हुई कश्ती मिरे किस काम की थी

वो कहानी कि अभी सूइयाँ निकलीं भी न थीं
फ़िक्र हर शख़्स को शहज़ादी के अंजाम की थी

ये हवा कैसे उड़ा ले गई आँचल मेरा
यूँ सताने की तो आदत मिरे घनश्याम की थी

बोझ उठाते हुए फिरती है हमारा अब तक
ऐ ज़मीं-माँ तिरी ये उम्र तो आराम की थी

- Parveen Shakir
3 Likes

Aadat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Parveen Shakir

As you were reading Shayari by Parveen Shakir

Similar Writers

our suggestion based on Parveen Shakir

Similar Moods

As you were reading Aadat Shayari Shayari