dil ka kya hai vo to chahega musalsal milna | दिल का क्या है वो तो चाहेगा मुसलसल मिलना - Parveen Shakir

dil ka kya hai vo to chahega musalsal milna
vo sitamgar bhi magar soche kisi pal milna

waan nahin waqt to ham bhi hain adeem-ul-fursat
us se kya miliye jo har roz kahe kal milna

ishq ki rah ke musaafir ka muqaddar maaloom
shehar ki soch mein ho aur use jungle milna

us ka milna hai ajab tarah ka milna jaise
dasht-e-ummeed mein andeshe ka baadal milna

daaman-e-shab ko agar chaak bhi kar leen to kahaan
noor mein dooba hua subh ka aanchal milna

दिल का क्या है वो तो चाहेगा मुसलसल मिलना
वो सितमगर भी मगर सोचे किसी पल मिलना

वाँ नहीं वक़्त तो हम भी हैं अदीम-उल-फ़ुर्सत
उस से क्या मिलिए जो हर रोज़ कहे कल मिलना

इश्क़ की रह के मुसाफ़िर का मुक़द्दर मालूम
शहर की सोच में हो और उसे जंगल मिलना

उस का मिलना है अजब तरह का मिलना जैसे
दश्त-ए-उम्मीद में अंदेशे का बादल मिलना

दामन-ए-शब को अगर चाक भी कर लीं तो कहाँ
नूर में डूबा हुआ सुब्ह का आँचल मिलना

- Parveen Shakir
1 Like

Gaon Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Parveen Shakir

As you were reading Shayari by Parveen Shakir

Similar Writers

our suggestion based on Parveen Shakir

Similar Moods

As you were reading Gaon Shayari Shayari