apni tanhaai mere naam pe aabaad kare | अपनी तन्हाई मिरे नाम पे आबाद करे - Parveen Shakir

apni tanhaai mere naam pe aabaad kare
kaun hoga jo mujhe us ki tarah yaad kare

dil ajab shehar ki jis par bhi khula dar is ka
vo musaafir ise har samt se barbaad kare

apne qaateel ki zehaanat se pareshaan hoon main
roz ik maut naye tarz ki ijaad kare

itna hairaan ho meri be-talbi ke aage
vaa qafas mein koi dar khud mera sayyaad kare

salb-e-beenaai ke ahkaam mile hain jo kabhi
raushni choone ki khwaahish koi shab-zaad kare

soch rakhna bhi jaraaem mein hai shaamil ab to
wahi maasoom hai har baat pe jo saad kare

jab lahu bol pade us ke gawaahon. ke khilaaf
qaazi-e-shehr kuchh is baab mein irshaad kare

us ki mutthi mein bahut roz raha mera vujood
mere saahir se kaho ab mujhe azaad kare

अपनी तन्हाई मिरे नाम पे आबाद करे
कौन होगा जो मुझे उस की तरह याद करे

दिल अजब शहर कि जिस पर भी खुला दर इस का
वो मुसाफ़िर इसे हर सम्त से बरबाद करे

अपने क़ातिल की ज़ेहानत से परेशान हूँ मैं
रोज़ इक मौत नए तर्ज़ की ईजाद करे

इतना हैराँ हो मिरी बे-तलबी के आगे
वा क़फ़स में कोई दर ख़ुद मिरा सय्याद करे

सल्ब-ए-बीनाई के अहकाम मिले हैं जो कभी
रौशनी छूने की ख़्वाहिश कोई शब-ज़ाद करे

सोच रखना भी जराएम में है शामिल अब तो
वही मासूम है हर बात पे जो साद करे

जब लहू बोल पड़े उस के गवाहों के ख़िलाफ़
क़ाज़ी-ए-शहर कुछ इस बाब में इरशाद करे

उस की मुट्ठी में बहुत रोज़ रहा मेरा वजूद
मेरे साहिर से कहो अब मुझे आज़ाद करे

- Parveen Shakir
1 Like

Ujaala Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Parveen Shakir

As you were reading Shayari by Parveen Shakir

Similar Writers

our suggestion based on Parveen Shakir

Similar Moods

As you were reading Ujaala Shayari Shayari