charaagon ko uchhaala ja raha hai | चराग़ों को उछाला जा रहा है - Rahat Indori

charaagon ko uchhaala ja raha hai
hawa par ro'b daala ja raha hai

na haar apni na apni jeet hogi
magar sikka uchhaala ja raha hai

vo dekho may-kade ke raaste mein
koi allah-wala ja raha hai

the pehle hi kai saanp aasteen mein
ab ik bichhoo bhi paala ja raha hai

mere jhoote gilaason ki chaka kar
bahkaton ko sambhaala ja raha hai

humi buniyaad ka patthar hain lekin
hamein ghar se nikala ja raha hai

janaaze par mere likh dena yaaro
mohabbat karne waala ja raha hai

चराग़ों को उछाला जा रहा है
हवा पर रो'ब डाला जा रहा है

न हार अपनी न अपनी जीत होगी
मगर सिक्का उछाला जा रहा है

वो देखो मय-कदे के रास्ते में
कोई अल्लाह-वाला जा रहा है

थे पहले ही कई साँप आस्तीं में
अब इक बिच्छू भी पाला जा रहा है

मिरे झूटे गिलासों की छका कर
बहकतों को सँभाला जा रहा है

हमी बुनियाद का पत्थर हैं लेकिन
हमें घर से निकाला जा रहा है

जनाज़े पर मिरे लिख देना यारो
मोहब्बत करने वाला जा रहा है

- Rahat Indori
3 Likes

Raasta Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Rahat Indori

As you were reading Shayari by Rahat Indori

Similar Writers

our suggestion based on Rahat Indori

Similar Moods

As you were reading Raasta Shayari Shayari