jo ye har-soo falak manzar khade hain | जो ये हर-सू फ़लक मंज़र खड़े हैं - Rahat Indori

jo ye har-soo falak manzar khade hain
na jaane kis ke pairo'n par khade hain

tula hai dhoop barsaane pe suraj
shajar bhi chhatriyaan le kar khade hain

unhen naamon se main pahchaanta hoon
mere dushman mere andar khade hain

kisi din chaand nikla tha yahan se
ujaale aaj tak chat par khade hain

ujaala sa hai kuchh kamre ke andar
zameen-o-aasman baahar khade hain

जो ये हर-सू फ़लक मंज़र खड़े हैं
न जाने किस के पैरों पर खड़े हैं

तुला है धूप बरसाने पे सूरज
शजर भी छतरियाँ ले कर खड़े हैं

उन्हें नामों से मैं पहचानता हूँ
मिरे दुश्मन मिरे अंदर खड़े हैं

किसी दिन चाँद निकला था यहाँ से
उजाले आज तक छत पर खड़े हैं

उजाला सा है कुछ कमरे के अंदर
ज़मीन-ओ-आसमाँ बाहर खड़े हैं

- Rahat Indori
6 Likes

Sooraj Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Rahat Indori

As you were reading Shayari by Rahat Indori

Similar Writers

our suggestion based on Rahat Indori

Similar Moods

As you were reading Sooraj Shayari Shayari