jab kabhi phoolon ne khushboo ki tijaarat ki hai | जब कभी फूलों ने ख़ुश्बू की तिजारत की है - Rahat Indori

jab kabhi phoolon ne khushboo ki tijaarat ki hai
patti patti ne hawaon se shikaayat ki hai

yun laga jaise koi itr fazaa mein ghul jaaye
jab kisi bacche ne quraan ki tilaavat ki hai

jaa-namaazon ki tarah noor mein ujlaai sehar
raat bhar jaise farishton ne ibadat ki hai

sar uthaaye theen bahut surkh hawa mein phir bhi
ham ne palkon ke charaagon ki hifazat ki hai

mujhe toofaan-e-haawadis se daraane waalo
haadson ne to mere haath pe bai't ki hai

aaj ik daana-e-gandum ke bhi haqdaar nahin
ham ne sadiyon inheen kheton pe hukoomat ki hai

ye zaroori tha ki ham dekhte qilon ke jalaal
umr bhar ham ne mazaaron ki ziyaarat ki hai

जब कभी फूलों ने ख़ुश्बू की तिजारत की है
पत्ती पत्ती ने हवाओं से शिकायत की है

यूँ लगा जैसे कोई इत्र फ़ज़ा में घुल जाए
जब किसी बच्चे ने क़ुरआँ की तिलावत की है

जा-नमाज़ों की तरह नूर में उज्लाई सहर
रात भर जैसे फ़रिश्तों ने इबादत की है

सर उठाए थीं बहुत सुर्ख़ हवा में फिर भी
हम ने पलकों के चराग़ों की हिफ़ाज़त की है

मुझे तूफ़ान-ए-हवादिस से डराने वालो
हादसों ने तो मिरे हाथ पे बैअ'त की है

आज इक दाना-ए-गंदुम के भी हक़दार नहीं
हम ने सदियों इन्हीं खेतों पे हुकूमत की है

ये ज़रूरी था कि हम देखते क़िलओं' के जलाल
उम्र भर हम ने मज़ारों की ज़ियारत की है

- Rahat Indori
4 Likes

Chehra Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Rahat Indori

As you were reading Shayari by Rahat Indori

Similar Writers

our suggestion based on Rahat Indori

Similar Moods

As you were reading Chehra Shayari Shayari