kaam sab ghair-zaroori hain jo sab karte hain | काम सब ग़ैर-ज़रूरी हैं जो सब करते हैं - Rahat Indori

kaam sab ghair-zaroori hain jo sab karte hain
aur ham kuchh nahin karte hain gazab karte hain

aap ki nazaron mein suraj ki hai jitni azmat
ham charaagon ka bhi utna hi adab karte hain

ham pe haakim ka koi hukm nahin chalta hai
ham qalander hain shahenshah laqab karte hain

dekhiye jis ko use dhun hai masihaai ki
aaj kal shehar ke beemaar matb karte hain

khud ko patthar sa bana rakha hai kuchh logon ne
bol sakte hain magar baat hi kab karte hain

ek ik pal ko kitaabon ki tarah padhne lage
umr bhar jo na kiya ham ne vo ab karte hain

काम सब ग़ैर-ज़रूरी हैं जो सब करते हैं
और हम कुछ नहीं करते हैं ग़ज़ब करते हैं

आप की नज़रों में सूरज की है जितनी अज़्मत
हम चराग़ों का भी उतना ही अदब करते हैं

हम पे हाकिम का कोई हुक्म नहीं चलता है
हम क़लंदर हैं शहंशाह लक़ब करते हैं

देखिए जिस को उसे धुन है मसीहाई की
आज कल शहर के बीमार मतब करते हैं

ख़ुद को पत्थर सा बना रक्खा है कुछ लोगों ने
बोल सकते हैं मगर बात ही कब करते हैं

एक इक पल को किताबों की तरह पढ़ने लगे
उम्र भर जो न किया हम ने वो अब करते हैं

- Rahat Indori
2 Likes

Budhapa Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Rahat Indori

As you were reading Shayari by Rahat Indori

Similar Writers

our suggestion based on Rahat Indori

Similar Moods

As you were reading Budhapa Shayari Shayari