vasl ke marhale se hijr ki manzil ki taraf | वस्ल के मरहले से हिज्र की मंज़िल की तरफ़ - Rahul Jha

vasl ke marhale se hijr ki manzil ki taraf
ishq mein badh rahe hain aakhiri mushkil ki taraf

laakh samjhaata hoon main us ko magar hote hi shaam
ek hasrat chali aati hai mere dil ki taraf

be-niyaazaana tiri or chale to the par ab
ghaur se dekhte hain hasrat-e-haail ki taraf

shehar ka shehar hai aashob ki zad mein so yahan
kis ko furqat hai ki dekhe haq-o-baatil ki taraf

वस्ल के मरहले से हिज्र की मंज़िल की तरफ़
इश्क़ में बढ़ रहे हैं आख़िरी मुश्किल की तरफ़

लाख समझाता हूँ मैं उस को मगर होते ही शाम
एक हसरत चली आती है मिरे दिल की तरफ

बे-नियाज़ाना तिरी ओर चले तो थे पर अब
ग़ौर से देखते हैं हसरत-ए-हाइल की तरफ़

शहर का शहर है आशोब की ज़द में सो यहाँ
किस को फ़ुर्सत है कि देखे हक़-ओ-बातिल की तरफ़

- Rahul Jha
0 Likes

Shaam Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Rahul Jha

As you were reading Shayari by Rahul Jha

Similar Writers

our suggestion based on Rahul Jha

Similar Moods

As you were reading Shaam Shayari Shayari