kuchh is ada se mohabbat-shanaas hona hai | कुछ इस अदा से मोहब्बत-शनास होना है - Rahul Jha

kuchh is ada se mohabbat-shanaas hona hai
khushi ke baab mein mujh ko udaas hona hai

main aaj sog manana sikhaane waala hoon
idhar ko aayein jinhen mahv-e-yaas hona hai

naashist-e-rooh mein paakizagi hai shart magar
badan ki bazm mein bas khush-libaas hona hai

main khud hi hota hoon apni nashaat ka bais
so mujh ko khud mere gham ki asaas hona hai

azal se meri hifazat ka farz hai un par
sabhi dukhon ko mere aas-paas hona hai

ye aashiqi tire bas ki nahin so rahne de
ki tera kaam to bas na-sipaas hona hai

कुछ इस अदा से मोहब्बत-शनास होना है
ख़ुशी के बाब में मुझ को उदास होना है

मैं आज सोग मनाना सिखाने वाला हूँ
इधर को आएँ जिन्हें महव-ए-यास होना है

नाशिस्त-ए-रूह में पाकीज़गी है शर्त मगर
बदन की बज़्म में बस ख़ुश-लिबास होना है

मैं ख़ुद ही होता हूँ अपनी नशात का बाइ'स
सो मुझ को ख़ुद मिरे ग़म की असास होना है

अज़ल से मेरी हिफ़ाज़त का फ़र्ज़ है उन पर
सभी दुखों को मेरे आस-पास होना है

ये आशिक़ी तिरे बस की नहीं सो रहने दे
कि तेरा काम तो बस ना-सिपास होना है

- Rahul Jha
0 Likes

Azal Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Rahul Jha

As you were reading Shayari by Rahul Jha

Similar Writers

our suggestion based on Rahul Jha

Similar Moods

As you were reading Azal Shayari Shayari