hirs ke baab mein yun khud ko tumhaara kar ke | हिर्स के बाब में यूँ ख़ुद को तुम्हारा कर के - Rahul Jha

hirs ke baab mein yun khud ko tumhaara kar ke
haath malta hoon main apna hi khasaara kar ke

ab mere zehan mein bas lazzat-e-duniya hai ravaan
thak chuka hoon tiri ulfat pe guzaara kar ke

ham abhi sohbat-e-duniya mein hain masroof magar
koi shab tum ko bhi dekhenge gawara kar ke

ham se khaamosh tabeeyat bhi hain duniya mein ki jo
us ko hi chahte hain us se kinaara kar ke

der tak koi na tha raah bataane waala
aur phir le gai ik mauj ishaara kar ke

हिर्स के बाब में यूँ ख़ुद को तुम्हारा कर के
हाथ मलता हूँ मैं अपना ही ख़सारा कर के

अब मिरे ज़ेहन में बस लज़्ज़त-ए-दुनिया है रवाँ
थक चुका हूँ तिरी उल्फ़त पे गुज़ारा कर के

हम अभी सोहबत-ए-दुनिया में हैं मसरूफ़ मगर
कोई शब तुम को भी देखेंगे गवारा कर के

हम से ख़ामोश तबीअत भी हैं दुनिया में कि जो
उस को ही चाहते हैं उस से किनारा कर के

देर तक कोई न था राह बताने वाला
और फिर ले गई इक मौज इशारा कर के

- Rahul Jha
0 Likes

Duniya Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Rahul Jha

As you were reading Shayari by Rahul Jha

Similar Writers

our suggestion based on Rahul Jha

Similar Moods

As you were reading Duniya Shayari Shayari