ab ke bikhra to main yakja nahin ho paaoonga | अब के बिखरा तो मैं यकजा नहीं हो पाऊँगा - Rahul Jha

ab ke bikhra to main yakja nahin ho paaoonga
tere haathon se bhi waisa nahin ho paaoonga

mujh ko beemaar karegi tiri aadat ik din
aur phir tujh se bhi achha nahin ho paaoonga

ye to mumkin hai ki ho jaaun tira khair-andesh
haan magar is se ziyaada nahin ho paaoonga

ab meri zaat mein bas ek ki gunjaish hai
main hua dhoop to saaya nahin ho paaoonga

yun to mushkil hi bahut hai mera haath aana aur
haath aaya to gawara nahin ho paaoonga

tu badi der se aaya mujhe zinda karne
ab nami pa ke bhi sabza nahin ho paaoonga

mujh mein itni nahin taaseer masihaai ki
zakham bhar saka hoon eesa nahin ho paaoonga

in dinon aql ki chalti hai hukoomat dil pe
main jo chaahoon bhi tumhaara nahin ho paaoonga

itna aabaad hai tujh se mere andar ka shehar
tujh se bichhda bhi to sehra nahin ho paaoonga

अब के बिखरा तो मैं यकजा नहीं हो पाऊँगा
तेरे हाथों से भी वैसा नहीं हो पाऊँगा

मुझ को बीमार करेगी तिरी आदत इक दिन
और फिर तुझ से भी अच्छा नहीं हो पाऊँगा

ये तो मुमकिन है कि हो जाऊँ तिरा ख़ैर-अंदेश
हाँ मगर इस से ज़ियादा नहीं हो पाऊँगा

अब मिरी ज़ात में बस एक की गुंजाइश है
मैं हुआ धूप तो साया नहीं हो पाऊँगा

यूँ तो मुश्किल ही बहुत है मिरा हाथ आना और
हाथ आया तो गवारा नहीं हो पाऊँगा

तू बड़ी देर से आया मुझे ज़िंदा करने
अब नमी पा के भी सब्ज़ा नहीं हो पाऊँगा

मुझ में इतनी नहीं तासीर मसीहाई की
ज़ख़्म भर सकता हूँ ईसा नहीं हो पाऊँगा

इन दिनों अक़्ल की चलती है हुकूमत दिल पे
मैं जो चाहूँ भी तुम्हारा नहीं हो पाऊँगा

इतना आबाद है तुझ से मिरे अंदर का शहर
तुझ से बिछड़ा भी तो सहरा नहीं हो पाऊँगा

- Rahul Jha
0 Likes

Shehar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Rahul Jha

As you were reading Shayari by Rahul Jha

Similar Writers

our suggestion based on Rahul Jha

Similar Moods

As you were reading Shehar Shayari Shayari