duniya ko resha-resha udhedhen rafu karein | दुनिया को रेशा-रेशा उधेड़ें रफ़ू करें - Rajesh Reddy

duniya ko resha-resha udhedhen rafu karein
aa baith thodi der zara guftagoo karein

jiska vazood hi na ho dono zahaan mein
us shay ki aarzoo hi nahin justajoo karein

duniya mein ik zamaane se hota raha hai jo
duniya ye chahti hai wahi hoo-b-hoo karein

unki ye zid ki ek takalluf bana rahe
apni tadap ki aapko tum tumko tu karein

unki nazar mein aayega kis din hamaara gham
aakhir ham apne ashkon ko kab tak lahu karein

dil tha kisi ne tod diya khel-khel mein
itni zara-si baat pe kya haav-hoo karein

dil phir b-zid hai phir usi kooche mein jaayen ham
phir ek baar vo hamein be-aabroo karein

दुनिया को रेशा-रेशा उधेड़ें रफ़ू करें
आ बैठ थोड़ी देर ज़रा गुफ़्तगू करें

जिसका वज़ूद ही न हो दोनों ज़हान में
उस शय की आरज़ू ही नहीं जुस्तजू करें

दुनिया में इक ज़माने से होता रहा है जो
दुनिया ये चाहती है वही हू-ब-हू करें

उनकी ये ज़िद कि एक तकल्लुफ़ बना रहे
अपनी तड़प कि आपको तुम, तुमको तू करें

उनकी नज़र में आएगा किस दिन हमारा ग़म
आख़िर हम अपने अश्कों को कब तक लहू करें

दिल था किसी ने तोड़ दिया खेल-खेल में
इतनी ज़रा-सी बात पे क्या हाव-हू करें

दिल फिर ब-ज़िद है फिर उसी कूचे में जाएँ हम
फिर एक बार वो हमें बे-आबरू करें

- Rajesh Reddy
6 Likes

Charagh Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Rajesh Reddy

As you were reading Shayari by Rajesh Reddy

Similar Writers

our suggestion based on Rajesh Reddy

Similar Moods

As you were reading Charagh Shayari Shayari