ye jo mujh par nikhaar hai saai | ये जो मुझ पर निखार है साईं - Rehman Faris

ye jo mujh par nikhaar hai saai
aap hi ki bahaar hai saai

aap chahein to jaan bhi le len
aap ko ikhtiyaar hai saai

tum milaate ho bichhde logon ko
ek mera bhi yaar hai saai

kisi khunti se baandh deeje use
dil bada be-mahaar hai saai

ishq mein lagzishon pe kijeye muaaf
saai ye pehli baar hai saai

kul mila kar hai jo bhi kuch mera
aap se musta'ar hai saai

ek kashti bana hi deeje mujhe
koi dariya ke paar hai saai

roz aansu kama ke laata hoon
gham mera rozgaar hai saai

wusat-e-rizq ki dua deeje
dard ka kaarobaar hai saai

khaar-zaaron se ho ke aaya hoon
pairhan taar-taar hai saai

kabhi aa kar to dekhiye ki ye dil
kaisa ujda dayaar hai saai

ये जो मुझ पर निखार है साईं
आप ही की बहार है साईं

आप चाहें तो जान भी ले लें
आप को इख़्तियार है साईं

तुम मिलाते हो बिछड़े लोगों को
एक मेरा भी यार है साईं

किसी खूँटी से बाँध दीजे उसे
दिल बड़ा बे-महार है साईं

इश्क़ में लग़्ज़िशों पे कीजे मुआफ़
साईं ये पहली बार है साईं

कुल मिला कर है जो भी कुछ मेरा
आप से मुस्तआ'र है साईं

एक कश्ती बना ही दीजे मुझे
कोई दरिया के पार है साईं

रोज़ आँसू कमा के लाता हूँ
ग़म मिरा रोज़गार है साईं

वुसअत-ए-रिज़्क की दुआ दीजे
दर्द का कारोबार है साईं

ख़ार-ज़ारों से हो के आया हूँ
पैरहन तार-तार है साईं

कभी आ कर तो देखिए कि ये दिल
कैसा उजड़ा दयार है साईं

- Rehman Faris
5 Likes

Religion Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Rehman Faris

As you were reading Shayari by Rehman Faris

Similar Writers

our suggestion based on Rehman Faris

Similar Moods

As you were reading Religion Shayari Shayari