us ne mujh se to kuchh kaha hi nahin | उस ने मुझ से तो कुछ कहा ही नहीं - Shahbaz Rizvi

us ne mujh se to kuchh kaha hi nahin
mera khud se to raabta hi nahin

qaza gar roz dast badle hai
mujh ko ijaad to kiya hi nahin

apne peeche main chhup ke chalta hoon
mera saaya mujhe mila hi nahin

kitni mushkil ke ba'ad toota hai
ik rishta kabhi jo tha hi nahin

ba'ad marne ke ghar naseeb hua
zindagi ne to kuchh diya hi nahin

hai-wafaai tujhe mubarak ho
ham ne badla kabhi liya hi nahin

उस ने मुझ से तो कुछ कहा ही नहीं
मेरा ख़ुद से तो राब्ता ही नहीं

क़ज़ा गर रोज़ दस्त बदले है
मुझ को ईजाद तो किया ही नहीं

अपने पीछे मैं छुप के चलता हूँ
मेरा साया मुझे मिला ही नहीं

कितनी मुश्किल के बा'द टूटा है
इक रिश्ता कभी जो था ही नहीं

बा'द मरने के घर नसीब हुआ
ज़िंदगी ने तो कुछ दिया ही नहीं

है-वफ़ाई तुझे मुबारक हो
हम ने बदला कभी लिया ही नहीं

- Shahbaz Rizvi
1 Like

Dushman Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Shahbaz Rizvi

As you were reading Shayari by Shahbaz Rizvi

Similar Writers

our suggestion based on Shahbaz Rizvi

Similar Moods

As you were reading Dushman Shayari Shayari