kaise sunaau dukhda main peer meer sahab | कैसे सुनाऊँ दुखड़ा मैं पीर मीर साहब - Shahbaz Rizvi

kaise sunaau dukhda main peer meer sahab
aankhon mein jam gai hai tasveer meer sahab

aansu nahin gire hain shola nahin utha hai
phir bhi pighal rahi hai zanjeer meer sahab

dilli dhadhak rahi hai sab shor kar rahe hain
dohraa rahe hain ghalib tahreer meer sahab

laashon pe chal rahe hain aur raks kar rahe hain
raaste badal rahe hain rahgeer meer sahab

jaisi udaas aankhen waisi udaas ghazlen
ik sher hai nishaana ik teer meer sahab

jhelum ka surkh paani yamuna se aa mila hai
dilli bhi ban rahi hai kashmir meer sahab

vehshat bala ki vehshat khilwat ajeeb khilwat
ro ro ke ho raha hoon main meer meer sahab

कैसे सुनाऊँ दुखड़ा मैं पीर मीर साहब
आँखों में जम गई है तस्वीर मीर साहब

आँसू नहीं गिरे हैं शोला नहीं उठा है
फिर भी पिघल रही है ज़ंजीर मीर साहब

दिल्ली धधक रही है सब शोर कर रहे हैं
दोहरा रहे हैं ग़ालिब तहरीर मीर साहब

लाशों पे चल रहे हैं और रक्स कर रहे हैं
रस्ते बदल रहे हैं रहगीर मीर साहब

जैसी उदास आँखें वैसी उदास ग़ज़लें
इक शेर है निशाना इक तीर मीर साहब

झेलम का सुर्ख़ पानी यमुना से आ मिला है
दिल्ली भी बन रही है कश्मीर मीर साहब

वहशत बला की वहशत, ख़लवत अजीब ख़लवत
रो रो के हो रहा हूँ, मैं 'मीर' मीर साहब

- Shahbaz Rizvi
4 Likes

Raqs Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Shahbaz Rizvi

As you were reading Shayari by Shahbaz Rizvi

Similar Writers

our suggestion based on Shahbaz Rizvi

Similar Moods

As you were reading Raqs Shayari Shayari