kaise kah doon ki mulaqaat nahin hoti hai | कैसे कह दूँ की मुलाक़ात नहीं होती है - Shakeel Badayuni

kaise kah doon ki mulaqaat nahin hoti hai
roz milte hain magar baat nahin hoti hai

aap lillaah na dekha karein aaina kabhi
dil ka aa jaana badi baat nahin hoti hai

chhup ke rota hoon tiri yaad mein duniya bhar se
kab meri aankh se barsaat nahin hoti hai

haal-e-dil poochne waale tiri duniya mein kabhi
din to hota hai magar raat nahin hoti hai

jab bhi milte hain to kahte hain ki kaise ho shakeel
is se aage to koi baat nahin hoti hai

कैसे कह दूँ की मुलाक़ात नहीं होती है
रोज़ मिलते हैं मगर बात नहीं होती है

आप लिल्लाह न देखा करें आईना कभी
दिल का आ जाना बड़ी बात नहीं होती है

छुप के रोता हूँ तिरी याद में दुनिया भर से
कब मिरी आँख से बरसात नहीं होती है

हाल-ए-दिल पूछने वाले तिरी दुनिया में कभी
दिन तो होता है मगर रात नहीं होती है

जब भी मिलते हैं तो कहते हैं कि कैसे हो 'शकील'
इस से आगे तो कोई बात नहीं होती है

- Shakeel Badayuni
6 Likes

Raat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Shakeel Badayuni

As you were reading Shayari by Shakeel Badayuni

Similar Writers

our suggestion based on Shakeel Badayuni

Similar Moods

As you were reading Raat Shayari Shayari