kahaani mein chhota sa kirdaar hai | कहानी में छोटा सा किरदार है - Shakeel Jamali

kahaani mein chhota sa kirdaar hai
hamaara magar ek mea'ar hai

khuda tujh ko sunne ki taufeeq de
meri khaamoshi mera izhaar hai

ye kaise ilaaqe mein hum aa base
gharo se nikalte hi bazaar hai

siyaasat ke chehre pe raunaq nahin
ye aurat hamesha ki beemaar hai

haqeeqat ka ik shaiba tak nahin
tumhaari kahaani mazedaar hai

ta'alluq ki tajheez-o-takfeen kar
vo daaman chhudaane ko taiyyaar hai

padosi padosi se hai be-khabar
magar sab ke haathon mein akhbaar hai

ye chhutti ka din hum se mat cheenna
yahi hum ghareebon ka tyaohar hai

use mashwaron ki zaroorat nahin
vo tum se ziyaada samajhdaar hai

कहानी में छोटा सा किरदार है
हमारा मगर एक मेआ'र है

ख़ुदा तुझ को सुनने की तौफ़ीक़ दे
मिरी ख़ामुशी मेरा इज़हार है

ये कैसे इलाक़े में हम आ बसे
घरों से निकलते ही बाज़ार है

सियासत के चेहरे पे रौनक़ नहीं
ये औरत हमेशा की बीमार है

हक़ीक़त का इक शाइबा तक नहीं
तुम्हारी कहानी मज़ेदार है

तअ'ल्लुक़ की तजहीज़-ओ-तकफ़ीन कर
वो दामन छुड़ाने को तय्यार है

पड़ोसी पड़ोसी से है बे-ख़बर
मगर सब के हाथों में अख़बार है

ये छुट्टी का दिन हम से मत छीनना
यही हम ग़रीबों का त्यौहार है

उसे मश्वरों की ज़रूरत नहीं
वो तुम से ज़ियादा समझदार है

- Shakeel Jamali
5 Likes

Ghar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Shakeel Jamali

As you were reading Shayari by Shakeel Jamali

Similar Writers

our suggestion based on Shakeel Jamali

Similar Moods

As you were reading Ghar Shayari Shayari