umr guzar jaati hai qisse rah jaate hain | उम्र गुज़र जाती है क़िस्से रह जाते हैं - Shamim Abbas

umr guzar jaati hai qisse rah jaate hain
pichhli rut ke bichhde saathi yaad aate hain

logon ne batlaaya hai ham ab akshar
baatein karte karte kahi kho jaate hain

koi aise waqt mein ham se bichhda hai
shaam dhale jab panchi ghar laut aate hain

apni hi awaaz sunaai deti hai
warna to sannaate hi sannaate hain

dil ka ek thikaana hai par apna kya
shaam jahaan hoti hai wahin pad jaate hain

kuchh din hasb-e-mansha bhi jee lene de
dekh tiri thuddi mein haath lagaate hain

उम्र गुज़र जाती है क़िस्से रह जाते हैं
पिछली रुत के बिछड़े साथी याद आते हैं

लोगों ने बतलाया है हम अब अक्सर
बातें करते करते कहीं खो जाते हैं

कोई ऐसे वक़्त में हम से बिछड़ा है
शाम ढले जब पंछी घर लौट आते हैं

अपनी ही आवाज़ सुनाई देती है
वर्ना तो सन्नाटे ही सन्नाटे हैं

दिल का एक ठिकाना है पर अपना क्या
शाम जहाँ होती है वहीं पड़ जाते हैं

कुछ दिन हस्ब-ए-मंशा भी जी लेने दे
देख तिरी ठुड्डी में हाथ लगाते हैं

- Shamim Abbas
3 Likes

Awaaz Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Shamim Abbas

As you were reading Shayari by Shamim Abbas

Similar Writers

our suggestion based on Shamim Abbas

Similar Moods

As you were reading Awaaz Shayari Shayari