soona aangan neend mein aise chaunk utha hai | सूना आँगन नींद में ऐसे चौंक उठा है - Shariq Kaifi

soona aangan neend mein aise chaunk utha hai
sote mein bhi jaise koi sisaki leta hai

ghar mein to is maahol ka main aadi hoon lekin
bazaaron ki veeraani se dam ghutta hai

muddat se main soch raha tha ab samjha hoon
jeb aur aankh ke khaali-pan mein kya rishta hai

itne log mujhe ruksat karne aaye hain
ghar waapas jaana bhi tamasha sa lagta hai

log to apni jaanib se kuchh jod hi lenge
itni adhuri baatein hain vo kyun karta hai

apni kya in raston ke baare mein sochun
un ka safar to meri umr se bhi lamba hai

us ki aankhon se ojhal mat hona sharik
peecha karne waala bahut tanhaa hota hai

सूना आँगन नींद में ऐसे चौंक उठा है
सोते में भी जैसे कोई सिसकी लेता है

घर में तो इस माहौल का मैं आदी हूँ लेकिन
बाज़ारों की वीरानी से दम घुटता है

मुद्दत से मैं सोच रहा था अब समझा हूँ
जेब और आँख के ख़ाली-पन में क्या रिश्ता है

इतने लोग मुझे रुख़्सत करने आए हैं
घर वापस जाना भी तमाशा सा लगता है

लोग तो अपनी जानिब से कुछ जोड़ ही लेंगे
इतनी अधूरी बातें हैं वो क्यूँ करता है

अपनी क्या इन रस्तों के बारे में सोचूँ
उन का सफ़र तो मेरी उम्र से भी लम्बा है

उस की आँखों से ओझल मत होना 'शारिक़'
पीछा करने वाला बहुत तन्हा होता है

- Shariq Kaifi
5 Likes

Safar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Shariq Kaifi

As you were reading Shayari by Shariq Kaifi

Similar Writers

our suggestion based on Shariq Kaifi

Similar Moods

As you were reading Safar Shayari Shayari