dilon par naqsh hona chahta hoon | दिलों पर नक़्श होना चाहता हूँ - Shariq Kaifi

dilon par naqsh hona chahta hoon
mukammal maut se ghabra raha hoon

sabhi se raaz kah deta hoon apne
na jaane kya chhupaana chahta hoon

tavajjoh ke liye tarsa hoon itna
ki ik ilzaam par khush ho raha hoon

mujhe mehfil ke baahar ka na jaano
main apna jaam khaali kar chuka hoon

ye aadat bhi usi ki di hui hai
ki sab ko muskuraa kar dekhta hoon

alag hoti hai har lamhe ki duniya
puraana ho ke bhi kitna naya hoon

दिलों पर नक़्श होना चाहता हूँ
मुकम्मल मौत से घबरा रहा हूँ

सभी से राज़ कह देता हूँ अपने
न जाने क्या छुपाना चाहता हूँ

तवज्जोह के लिए तरसा हूँ इतना
कि इक इल्ज़ाम पर ख़ुश हो रहा हूँ

मुझे महफ़िल के बाहर का न जानो
मैं अपना जाम ख़ाली कर चुका हूँ

ये आदत भी उसी की दी हुई है
कि सब को मुस्कुरा कर देखता हूँ

अलग होती है हर लम्हे की दुनिया
पुराना हो के भी कितना नया हूँ

- Shariq Kaifi
1 Like

Maikada Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Shariq Kaifi

As you were reading Shayari by Shariq Kaifi

Similar Writers

our suggestion based on Shariq Kaifi

Similar Moods

As you were reading Maikada Shayari Shayari