tujhe likhkoonga is tarah se main apni kahaani mein | तुझे लिख्खूंगा इस तरह से मैं अपनी कहानी में - Shubham Seth

tujhe likhkoonga is tarah se main apni kahaani mein
ho umda qaafiya jaise koi misra-e-saani mein

bahut galati hui hain bhool se mujhse jawaani mein
magar afsos to hoga na mujhko jindagaani mein

nikalna naav ko lekar hai ab gehre samandar mein
zara hum dekh len kitni bachi hai aag paani mein

bhala kisne kaha tumse ki gul khilte nahin shab mein
kabhi daalo zara tum chaandni ko raatraani mein

khuda isse ziyaada bhi muhabbat kya muqammal ho
zanaaze mein leta hai pyaar mera sherwaani mein

तुझे लिख्खूंगा इस तरह से मैं अपनी कहानी में
हो उम्दा क़ाफिया जैसे कोई मिसरा-ए-सानी में

बहुत गलती हुई हैं. भूल से मुझसे जवानी में
मगर अफ़सोस तो होगा न मुझको जिंदगानी में

निकलना नाव को लेकर है अब गहरे समन्दर में
ज़रा हम देख लें कितनी बची है आग पानी में

भला किसने कहा तुमसे कि गुल खिलते नहीं शब में
कभी डालो ज़रा तुम चांदनी को रातरानी में

खुदा इससे ज़ियादा भी मुहब्बत क्या मुक़म्मल हो
ज़नाज़े में लेटा है प्यार मेरा शेरवानी में

- Shubham Seth
2 Likes

Aah Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Shubham Seth

As you were reading Shayari by Shubham Seth

Similar Writers

our suggestion based on Shubham Seth

Similar Moods

As you were reading Aah Shayari Shayari