hausale the kabhi bulandi par | हौसले थे कभी बुलंदी पर - Siraj Faisal Khan

hausale the kabhi bulandi par
ab faqat bebaasi bulandi par

khaak mein mil gai ana sab ki
chadh gai thi badi bulandi par

phir zameen par bikhar gai aa kar
dhoop kuch pal rahi bulandi par

khil rahi hai tamaam khushiyon mein
ik tumhaari kami bulandi par

hum zameen se yahi samjhte the
hai bahut raushni bulandi par

gir gai hain samaaj ki qadren
chadh gaya aadmi bulandi par

zindagi dekh kar hui hairaan
aa gai maut bhi bulandi par

mujh se sehra panaah maange hai
dekh vehshat meri bulandi par

hum zameen par gire bulandi se
khaak ud kar gai bulandi par

ek dil par kabhi hukoomat thi
ya'ni main tha kabhi bulandi par

khal rahi hai kuch ek logon ko
meri maujoodgi bulandi par

hai khuda saamne mere maujood
aa gai bandagi bulandi par

khil rahi hai tamaam khushiyon mein
ik tumhaari kami bulandi par

hum zameen se yahi samjhte the
hai bahut raushni bulandi par

gir gai hain samaaj ki qadren
chadh gaya aadmi bulandi par

zindagi dekh kar hui hairaan
aa gai maut bhi bulandi par

mujh se sehra panaah maange hai
dekh vehshat meri bulandi par

hum zameen par gire bulandi se
khaak ud kar gai bulandi par

ek dil par kabhi hukoomat thi
ya'ni main tha kabhi bulandi par

khal rahi hai kuch ek logon ko
meri maujoodgi bulandi par

hai khuda saamne mere maujood
aa gai bandagi bulandi par

हौसले थे कभी बुलंदी पर
अब फ़क़त बेबसी बुलंदी पर

ख़ाक में मिल गई अना सब की
चढ़ गई थी बड़ी बुलंदी पर

फिर ज़मीं पर बिखर गई आ कर
धूप कुछ पल रही बुलंदी पर

खिल रही है तमाम ख़ुशियों में
इक तुम्हारी कमी बुलंदी पर

हम ज़मीं से यही समझते थे
है बहुत रौशनी बुलंदी पर

गिर गई हैं समाज की क़द्रें
चढ़ गया आदमी बुलंदी पर

ज़िंदगी देख कर हुई हैरान
आ गई मौत भी बुलंदी पर

मुझ से सहरा पनाह माँगे है
देख वहशत मेरी बुलंदी पर

हम ज़मीं पर गिरे बुलंदी से
ख़ाक उड़ कर गई बुलंदी पर

एक दिल पर कभी हुकूमत थी
या'नी मैं था कभी बुलंदी पर

खल रही है कुछ एक लोगों को
मेरी मौजूदगी बुलंदी पर

है ख़ुदा सामने मेरे मौजूद
आ गई बंदगी बुलंदी पर

खिल रही है तमाम ख़ुशियों में
इक तुम्हारी कमी बुलंदी पर

हम ज़मीं से यही समझते थे
है बहुत रौशनी बुलंदी पर

गिर गई हैं समाज की क़द्रें
चढ़ गया आदमी बुलंदी पर

ज़िंदगी देख कर हुई हैरान
आ गई मौत भी बुलंदी पर

मुझ से सहरा पनाह माँगे है
देख वहशत मेरी बुलंदी पर

हम ज़मीं पर गिरे बुलंदी से
ख़ाक उड़ कर गई बुलंदी पर

एक दिल पर कभी हुकूमत थी
या'नी मैं था कभी बुलंदी पर

खल रही है कुछ एक लोगों को
मेरी मौजूदगी बुलंदी पर

है ख़ुदा सामने मेरे मौजूद
आ गई बंदगी बुलंदी पर

- Siraj Faisal Khan
1 Like

Aadmi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Siraj Faisal Khan

As you were reading Shayari by Siraj Faisal Khan

Similar Writers

our suggestion based on Siraj Faisal Khan

Similar Moods

As you were reading Aadmi Shayari Shayari