tire ehsaas mein dooba hua main | तिरे एहसास में डूबा हुआ मैं - Siraj Faisal Khan

tire ehsaas mein dooba hua main
kabhi sehra kabhi dariya hua main

tiri nazrein tiki theen aasmaan par
tire daaman se tha lipta hua main

khuli aankhon se bhi soya hoon akshar
tumhaara raasta takta hua main

khuda jaane ke daldal mein ghamon ke
kahaan tak jaaunga dhansata hua main

bahut pur-khaar thi raah-e-mohabbat
chala aaya magar hansta hua main

kai din baad us ne guftugoo ki
kai din ba'ad phir achha hua main

तिरे एहसास में डूबा हुआ मैं
कभी सहरा कभी दरिया हुआ मैं

तिरी नज़रें टिकी थीं आसमाँ पर
तिरे दामन से था लिपटा हुआ मैं

खुली आँखों से भी सोया हूँ अक्सर
तुम्हारा रास्ता तकता हुआ मैं

ख़ुदा जाने के दलदल में ग़मों के
कहाँ तक जाऊँगा धँसता हुआ मैं

बहुत पुर-ख़ार थी राह-ए-मोहब्बत
चला आया मगर हँसता हुआ मैं

कई दिन बाद उस ने गुफ़्तुगू की
कई दिन बा'द फिर अच्छा हुआ मैं

- Siraj Faisal Khan
1 Like

Khuda Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Siraj Faisal Khan

As you were reading Shayari by Siraj Faisal Khan

Similar Writers

our suggestion based on Siraj Faisal Khan

Similar Moods

As you were reading Khuda Shayari Shayari