ab kisi ko nahin mera afsos | अब किसी को नहीं मिरा अफ़्सोस - Siraj Faisal Khan

ab kisi ko nahin mera afsos
jaan kar ye bahut hua afsos

dukh nahin ye jahaan mukhalif hai
saath apne nahin khuda afsos

lad ke barbaad ho gaye jab ham
saath mil kar kiya gaya afsos

jab bhi khushiyon ne dar pe dastak di
saamne aa khada hua afsos

ham faqat jang hi nahin haare
hausla bhi bikhar gaya afsos

ik ghazal aur ho gai ham se
she'r koi nahin hua afsos

aap ko main ne thes pahunchaai
main ne behad bura kiya afsos

khoob-soorat bahut nazar aaye
jab mera dil nahin raha afsos

mujh ko khud par yaqeen nahin jaanaan
tum ne mujh par yaqeen kiya afsos

main ne baaki nahin rakha kuchh bhi
aap ne kuchh nahin kiya afsos

tu hai sharminda ilm hai lekin
tu nazar se utar gaya afsos

aadmi tu siraaj achha tha
itni jaldi guzar gaya afsos

faatiha padh ki phool rakh mujh par
aa gaya hai to kuchh jata afsos

us ne barbaad kar diya mujh ko
us ko is ka nahin zara afsos

mujh ko tum par bahut bharosa tha
tum ne mayus kar diya afsos

ai khuda hai haseen tiri duniya
par mera jee uchat gaya afsos

अब किसी को नहीं मिरा अफ़्सोस
जान कर ये बहुत हुआ अफ़्सोस

दुख नहीं ये जहाँ मुख़ालिफ़ है
साथ अपने नहीं ख़ुदा अफ़्सोस

लड़ के बर्बाद हो गए जब हम
साथ मिल कर किया गया अफ़्सोस

जब भी ख़ुशियों ने दर पे दस्तक दी
सामने आ खड़ा हुआ अफ़्सोस

हम फ़क़त जंग ही नहीं हारे
हौसला भी बिखर गया अफ़्सोस

इक ग़ज़ल और हो गई हम से
शे'र कोई नहीं हुआ अफ़्सोस

आप को मैं ने ठेस पहुँचाई
मैं ने बेहद बुरा किया अफ़्सोस

ख़ूब-सूरत बहुत नज़र आए
जब मिरा दिल नहीं रहा अफ़्सोस

मुझ को ख़ुद पर यक़ीं नहीं जानाँ
तुम ने मुझ पर यक़ीं किया अफ़्सोस

मैं ने बाक़ी नहीं रखा कुछ भी
आप ने कुछ नहीं किया अफ़्सोस

तू है शर्मिंदा इल्म है लेकिन
तू नज़र से उतर गया अफ़्सोस

आदमी तू 'सिराज' अच्छा था
इतनी जल्दी गुज़र गया अफ़्सोस

फ़ातिहा पढ़ कि फूल रख मुझ पर
आ गया है तो कुछ जता अफ़्सोस

उस ने बर्बाद कर दिया मुझ को
उस को इस का नहीं ज़रा अफ़्सोस

मुझ को तुम पर बहुत भरोसा था
तुम ने मायूस कर दिया अफ़्सोस

ऐ ख़ुदा है हसीं तिरी दुनिया
पर मिरा जी उचट गया अफ़्सोस

- Siraj Faisal Khan
1 Like

Ummeed Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Siraj Faisal Khan

As you were reading Shayari by Siraj Faisal Khan

Similar Writers

our suggestion based on Siraj Faisal Khan

Similar Moods

As you were reading Ummeed Shayari Shayari