besakhta shamsheer palat myaan mein aayi | बेसाख़्ता शमशीर पलट म्यान में आई - Siraj Faisal Khan

besakhta shamsheer palat myaan mein aayi
guldaste liye fauj vo maidaan mein aayi

ilhaam utarta hai payambar pe kisi jyuun
chaahat teri aise dile veeraan mein aayi

kuchh raaz siva rab ke nahin jaanta koi
har baat nahin khul ke hai quraan mein aayi

galiyon se guzarte hue chaunk uthata hoon akshar
jaise teri aawaaz mere kaan mein aayi

ab ja ke kahi on hua phone kisi ka
ab ja ke kahi jaan meri jaan mein aayi

lahja hua tulsi ka mere khurdara kaise
talkhi ye bhala kyun mere raskhan mein aayi

naaqid tu kahega mujhe shaagird bana len
ye shaayri jis din tere sanjnaan mein aayi

बेसाख़्ता शमशीर पलट म्यान में आई
गुलदस्ते लिए फ़ौज वो मैदान में आई

इल्हाम उतरता है पयम्बर पे किसी ज्यूँ
चाहत तेरी ऐसे दिले वीरान में आई

कुछ राज़ सिवा रब के नहीं जानता कोई
हर बात नहीं खुल के है क़ुरआन में आई

गलियों से गुज़रते हुए चौंक उठता हूँ अक्सर
जैसे तेरी आवाज़ मेरे कान में आई

अब जा के कहीं ऑन हुआ फ़ोन किसी का
अब जा के कहीं जान मेरी जान में आई

लहजा हुआ तुलसी का मेरे खुरदरा कैसे
तल्ख़ी ये भला क्यूँ मेरे रसखान में आई

नाक़िद तू कहेगा मुझे शागिर्द बना लें
ये शाइरी जिस दिन तेरे संज्ञान में आई

- Siraj Faisal Khan
1 Like

Mazhab Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Siraj Faisal Khan

As you were reading Shayari by Siraj Faisal Khan

Similar Writers

our suggestion based on Siraj Faisal Khan

Similar Moods

As you were reading Mazhab Shayari Shayari