aisi shadeed raushni main jal maroonga main | ऐसी शदीद रौशनी मैं जल मरूँगा मैं - Sohaib Mugheera Siddiqi

aisi shadeed raushni main jal maroonga main
itne haseen shakhs ko kaise sahunga main

mujh se mera vujood to saabit nahin hua
tu aankh bhar ke dekh le hone lagunga main

main markaze se door hoon par daayre main hoon
zinda raha to tere gale aa lagunga main

main vo ajeeb shakhs hoon ke chand roz tak
paagal na kar saka to use maar doonga main

ऐसी शदीद रौशनी मैं जल मरूँगा मैं
इतने हसीं शख्स को कैसे सहूँगा मैं

मुझ से मेरा वजूद तो साबित नहीं हुआ
तू आँख भर के देख ले होने लगूँगा मैं

मैं मरकज़े से दूर हूँ पर दायरे मैं हूँ
ज़िंदा रहा तो तेरे गले आ लगूँगा मैं

मैं वो अजीब शख्स हूँ के चंद रोज़ तक
पागल न कर सका तो उसे मार दूँगा मैं

- Sohaib Mugheera Siddiqi
4 Likes

Aankhein Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Sohaib Mugheera Siddiqi

As you were reading Shayari by Sohaib Mugheera Siddiqi

Similar Writers

our suggestion based on Sohaib Mugheera Siddiqi

Similar Moods

As you were reading Aankhein Shayari Shayari