dard ke daaimi rishton se lipt jaate hain | दर्द के दाइमी रिश्तों से लिपट जाते हैं - Subhan Asad

dard ke daaimi rishton se lipt jaate hain
aks rote hain to sheeshon se lipt jaate hain

haaye vo log jinhen hum ne bhula rakha hai
yaad aate hain to saanson se lipt jaate hain

kis ke pairo'n ke nishaan hain ki musaafir bhi ab
manzilen bhool ke raston se lipt jaate hain

jab woh rota hai to yak-lakht meri pyaas ke hont
us ki aankhon ke kinaaron se lipt jaate hain

jab unhen neend panaahen nahin deti hain asad
khwaab phir jaagti aankhon se lipt jaate hain

दर्द के दाइमी रिश्तों से लिपट जाते हैं
अक्स रोते हैं तो शीशों से लिपट जाते हैं

हाए वो लोग जिन्हें हम ने भुला रक्खा है
याद आते हैं तो साँसों से लिपट जाते हैं

किस के पैरों के निशाँ हैं कि मुसाफ़िर भी अब
मंज़िलें भूल के रस्तों से लिपट जाते हैं

जब वह रोता है तो यक-लख़्त मिरी प्यास के होंट
उस की आँखों के किनारों से लिपट जाते हैं

जब उन्हें नींद पनाहें नहीं देती हैं 'असद'
ख़्वाब फिर जागती आँखों से लिपट जाते हैं

- Subhan Asad
1 Like

Muskurahat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Subhan Asad

As you were reading Shayari by Subhan Asad

Similar Writers

our suggestion based on Subhan Asad

Similar Moods

As you were reading Muskurahat Shayari Shayari