hijr baksha kabhi visaal diya | हिज्र बख़्शा कभी विसाल दिया - Taimur Hasan

hijr baksha kabhi visaal diya
ishq ne jo diya kamaal diya

ek khat jo sambhaalna tha mujhe
jaane main ne kahaan sanbhaal diya

shukr us ka karoon ada kaise
jis ne hairat di aur sawaal diya

meri qismat ka faisla us ne
marz-e-iltava mein daal diya

khud kiya faisla khilaaf apne
mushkilon se use nikaal diya

sab ko dil ki bataata tha taimoor
main ne poocha to hans ke taal diya

हिज्र बख़्शा कभी विसाल दिया
इश्क़ ने जो दिया कमाल दिया

एक ख़त जो सँभालना था मुझे
जाने मैं ने कहाँ सँभाल दिया

शुक्र उस का करूँ अदा कैसे
जिस ने हैरत दी और सवाल दिया

मेरी क़िस्मत का फ़ैसला उस ने
म'रज़-ए-इल्तवा में डाल दिया

ख़ुद किया फ़ैसला ख़िलाफ़ अपने
मुश्किलों से उसे निकाल दिया

सब को दिल की बताता था 'तैमूर'
मैं ने पूछा तो हँस के टाल दिया

- Taimur Hasan
0 Likes

Khat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Taimur Hasan

As you were reading Shayari by Taimur Hasan

Similar Writers

our suggestion based on Taimur Hasan

Similar Moods

As you were reading Khat Shayari Shayari