moti nahin hoon ret ka zarra to main bhi hoon | मोती नहीं हूँ रेत का ज़र्रा तो मैं भी हूँ - Taimur Hasan

moti nahin hoon ret ka zarra to main bhi hoon
dariya tire vujood ka hissa to main bhi hoon

ai qahqahe bikherne waale tu khush bhi hai
hansne ki baat chhod ki hansta to main bhi hoon

mujh mein aur us mein sirf muqaddar ka farq hai
warna vo shakhs jitna hai utna to main bhi hoon

us ki tu soch duniya mein jis ka koi nahin
tu kis liye udaas hai tera to main bhi hoon

ik ek kar ke doobte taare bujha gaye
mujh ko bhi doobna hai sitaara to main bhi hoon

ik aaine mein dekh ke aaya hai ye khayal
main kyun na us se kah doon ki tujh sa to main bhi hoon

मोती नहीं हूँ रेत का ज़र्रा तो मैं भी हूँ
दरिया तिरे वजूद का हिस्सा तो मैं भी हूँ

ऐ क़हक़हे बिखेरने वाले तू ख़ुश भी है
हँसने की बात छोड़ कि हँसता तो मैं भी हूँ

मुझ में और उस में सिर्फ़ मुक़द्दर का फ़र्क़ है
वर्ना वो शख़्स जितना है उतना तो मैं भी हूँ

उस की तू सोच दुनिया में जिस का कोई नहीं
तू किस लिए उदास है तेरा तो मैं भी हूँ

इक एक कर के डूबते तारे बुझा गए
मुझ को भी डूबना है सितारा तो मैं भी हूँ

इक आइने में देख के आया है ये ख़याल
मैं क्यूँ न उस से कह दूँ कि तुझ सा तो मैं भी हूँ

- Taimur Hasan
0 Likes

Sad Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Taimur Hasan

As you were reading Shayari by Taimur Hasan

Similar Writers

our suggestion based on Taimur Hasan

Similar Moods

As you were reading Sad Shayari Shayari