ham duniya se jab tang aaya karte hain | हम दुनिया से जब तंग आया करते हैं - Taimur Hasan

ham duniya se jab tang aaya karte hain
apne saath ik shaam manaaya karte hain

suraj ke us jaanib basne waale log
akshar ham ko paas bulaaya karte hain

yoonhi khud se rootha karte hain pehle
der talak phir khud ko manaaya karte hain

chup rahte hain us ke saamne ja kar ham
yun us ko chakh yaad dilaayaa karte hain

neendon ke veeraan jazeera par har shab
khwaabon ka ik shehar basaaya karte hain

in khwaabon ki qeemat ham se pooch ki ham
in ke sahaare umr bitaya karte hain

ab to koi bhi door nahin to phir taimoor
ham khat kis ke naam likhaaya karte hain

हम दुनिया से जब तंग आया करते हैं
अपने साथ इक शाम मनाया करते हैं

सूरज के उस जानिब बसने वाले लोग
अक्सर हम को पास बुलाया करते हैं

यूँही ख़ुद से रूठा करते हैं पहले
देर तलक फिर ख़ुद को मनाया करते हैं

चुप रहते हैं उस के सामने जा कर हम
यूँ उस को चख याद दिलाया करते हैं

नींदों के वीरान जज़ीरे पर हर शब
ख़्वाबों का इक शहर बसाया करते हैं

इन ख़्वाबों की क़ीमत हम से पूछ कि हम
इन के सहारे उम्र बिताया करते हैं

अब तो कोई भी दूर नहीं तो फिर 'तैमूर'
हम ख़त किस के नाम लिखाया करते हैं

- Taimur Hasan
0 Likes

Shehar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Taimur Hasan

As you were reading Shayari by Taimur Hasan

Similar Writers

our suggestion based on Taimur Hasan

Similar Moods

As you were reading Shehar Shayari Shayari