makaan se hoga kabhi la-makaan se hoga | मकाँ से होगा कभी ला-मकान से होगा - Taimur Hasan

makaan se hoga kabhi la-makaan se hoga
mera ye m'arka dono jahaan se hoga

tu choo sakega bulandi ki kin manazil ko
ye faisla tiri pehli udaan se hoga

uthe hain us ki taraf kis liye ye haath mere
koi to rabt mera aasmaan se hoga

ye jang jeet hai kis ki ye haar kis ki hai
ye faisla meri tooti kamaan se hoga

bina padegi judaai ki jis ko kehne se
ada vo lafz bhi meri zabaan se hoga

मकाँ से होगा कभी ला-मकान से होगा
मिरा ये म'अरका दोनों जहान से होगा

तू छू सकेगा बुलंदी की किन मनाज़िल को
ये फ़ैसला तिरी पहली उड़ान से होगा

उठे हैं उस की तरफ़ किस लिए ये हाथ मिरे
कोई तो रब्त मिरा आसमान से होगा

ये जंग जीत है किस की ये हार किस की है
ये फ़ैसला मिरी टूटी कमान से होगा

बिना पड़ेगी जुदाई की जिस को कहने से
अदा वो लफ़्ज़ भी मेरी ज़बान से होगा

- Taimur Hasan
0 Likes

Teer Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Taimur Hasan

As you were reading Shayari by Taimur Hasan

Similar Writers

our suggestion based on Taimur Hasan

Similar Moods

As you were reading Teer Shayari Shayari