vo jo mumkin na ho mumkin ye bana deta hai | वो जो मुमकिन न हो मुमकिन ये बना देता है - Taimur Hasan

vo jo mumkin na ho mumkin ye bana deta hai
khwaab dariya ke kinaaron ko mila deta hai

zindagi bhar ki riyaazat meri be-kaar gai
ik khayal aaya tha badle mein vo kya deta hai

ab mujhe lagta hai dushman mera apna chehra
mujh se pehle ye mera haal bata deta hai

chand jumle vo ada karta hai aise dhab se
mere afkaar ki buniyaad hila deta hai

ye bhi ejaz-e-mohabbat hai ki rone waala
rote rote tujhe hansne ki dua deta hai

zindagi jang hai aasaab ki aur ye bhi suno
ishq aasaab ko mazboot bana deta hai

baithe baithe use kya hota hai jaane taimoor
jalta cigarette vo hatheli pe bujha deta hai

ye jahaan is liye achha nahin lagta taimoor
jab bhi deta hai mujhe tera gila deta hai

वो जो मुमकिन न हो मुमकिन ये बना देता है
ख़्वाब दरिया के किनारों को मिला देता है

ज़िंदगी भर की रियाज़त मिरी बे-कार गई
इक ख़याल आया था बदले में वो क्या देता है

अब मुझे लगता है दुश्मन मिरा अपना चेहरा
मुझ से पहले ये मिरा हाल बता देता है

चंद जुमले वो अदा करता है ऐसे ढब से
मेरे अफ़्कार की बुनियाद हिला देता है

ये भी एजाज़-ए-मोहब्बत है कि रोने वाला
रोते रोते तुझे हँसने की दुआ देता है

ज़िंदगी जंग है आसाब की और ये भी सुनो
इश्क़ आसाब को मज़बूत बना देता है

बैठे बैठे उसे क्या होता है जाने 'तैमूर'
जलता सिगरेट वो हथेली पे बुझा देता है

ये जहाँ इस लिए अच्छा नहीं लगता 'तैमूर'
जब भी देता है मुझे तेरा गिला देता है

- Taimur Hasan
0 Likes

Dua Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Taimur Hasan

As you were reading Shayari by Taimur Hasan

Similar Writers

our suggestion based on Taimur Hasan

Similar Moods

As you were reading Dua Shayari Shayari