kyun tere dar se hi chup chaap guzar aate hain | क्यों तेरे दर से ही चुप चाप गुज़र आते हैं - Tajdeed Qaiser

kyun tere dar se hi chup chaap guzar aate hain
jo khudaaon ki tarah ban ke sharar aate hain

vo mera ho ke bhi ho saka nahin hairat hai
phir bhi har haal mein ham saath nazar aate hain

waqt hai dost ise dhyaan mein rakh kaam mein la
khwaab veeraan jazeero pe utar aate hain

uske wahdat ne mujhe apni taraf kheecha tha
varna raaste mein to kitne hi shajar aate hain

har koi chaand sa chehra nahin hota saccha
aabshaaron ki tahon mein bhi khandar aate hain

main ki hairaan hoon is rabt pe ham dono ke
le ke har baar adoo teri khabar aate hain

क्यों तेरे दर से ही चुप चाप गुज़र आते हैं
जो ख़ुदाओं की तरह बन के शरर आते हैं

वो मेरा हो के भी हो सकता नहीं हैरत है
फिर भी हर हाल में हम साथ नज़र आते हैं

वक़्त है दोस्त इसे ध्यान में रख काम में ला
ख़्वाब वीरान जज़ीरों पे उतर आते हैं

उसके वहदत ने मुझे अपनी तरफ़ खींचा था
वरना रस्ते में तो कितने ही शजर आते हैं

हर कोई चाँद सा चेहरा नहीं होता सच्चा
आबशारों की तहों में भी खंडर आते हैं

मैं कि हैरान हूँ इस रब्त पे हम दोनों के
ले के हर बार अदू तेरी ख़बर आते हैं

- Tajdeed Qaiser
4 Likes

Yaad Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Tajdeed Qaiser

As you were reading Shayari by Tajdeed Qaiser

Similar Writers

our suggestion based on Tajdeed Qaiser

Similar Moods

As you were reading Yaad Shayari Shayari