sukoon tum se mera itminaan tum se hai | सुकून तुम से मेरा इत्मिनान तुम से है - Tajdeed Qaiser

sukoon tum se mera itminaan tum se hai
haseen shakhs mera kul jahaan tum se hai

tumhaara lams mujhe beshumaar karta hai
meri nigah hai tum se udaan tum se hai

main raaz-e-ishq bayaan kar nahin saki ab tak
yahi khabar hai zamaan-o-makaan tum se hai

kahi main hosh jo kho doon to saamne aana
bikhar ke dekha hai mera dhiyaan tum se hai

jo tum nahin to karein kis pe baat ham tajdeed
ki apni khaamoshi apna bayaan tum se hai

सुकून तुम से मेरा इत्मिनान तुम से है
हसीन शख़्स मेरा कुल जहान तुम से है

तुम्हारा लम्स मुझे बेशुमार करता है
मेरी निग़ाह है तुम से उड़ान तुम से है

मैं राज़-ए-इश्क़ बयाँ कर नहीं सकी अब तक
यही ख़बर है ज़मान-ओ-मकान तुम से है

कहीं मैं होश जो खो दूँ तो सामने आना
बिखर के देखा है मेरा धियान तुम से है

जो तुम नहीं तो करें किस पे बात हम 'तजदीद'
कि अपनी ख़ामुशी अपना बयान तुम से है

- Tajdeed Qaiser
7 Likes

Sukoon Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Tajdeed Qaiser

As you were reading Shayari by Tajdeed Qaiser

Similar Writers

our suggestion based on Tajdeed Qaiser

Similar Moods

As you were reading Sukoon Shayari Shayari