yun use gham mein mubtila karenge | यूँ उसे ग़म में मुब्तिला करेंगे - Tajdeed Qaiser

yun use gham mein mubtila karenge
muskuraate hue juda karenge

tune sab mein khushi bikheri hai
ham tere ahad se wafa karenge

kaale kapde pahan ke ghoomenge
khud ko satrangiya kiya karenge

dekha jaata nahin hai aaina
kis tarah tera saamna karenge

tere pahluu mein jaagne waale
aansuon se wuzoo kiya karenge

teri baatein karenge phoolon se
baag mein raushni kiya karenge

aapki yaad jab bhi aayegi
aapke vaaste dua karenge

यूँ उसे ग़म में मुब्तिला करेंगे
मुस्कुराते हुए जुदा करेंगे

तूने सब में ख़ुशी बिखेरी है
हम तेरे अहद से वफ़ा करेंगे

काले कपड़े पहन के घूमेंगे
ख़ुद को सतरंगिया किया करेंगे

देखा जाता नहीं है आईना
किस तरह तेरा सामना करेंगे

तेरे पहलू में जागने वाले
आँसुओं से वुज़ू किया करेंगे

तेरी बातें करेंगे फूलों से
बाग़ में रौशनी किया करेंगे

आपकी याद जब भी आएगी
आपके वास्ते दुआ करेंगे

- Tajdeed Qaiser
3 Likes

Ujaala Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Tajdeed Qaiser

As you were reading Shayari by Tajdeed Qaiser

Similar Writers

our suggestion based on Tajdeed Qaiser

Similar Moods

As you were reading Ujaala Shayari Shayari