usko zid se to achha nahin rokna chhod do | उसको ज़िद से तो अच्छा नहीं रोकना छोड़ दो - Tajdeed Qaiser

usko zid se to achha nahin rokna chhod do
uski marzi hai tum uspe ye faisla chhod do

maine bas itna poocha tha kya dekhte ho bhala
maine ye kab kaha tha mujhe dekhna chhod do

tum miloge nahin to main jeete jee mar jaoongi
ba-khuda aisi khushfahmiyaan paalna chhod do

meri aankhon pe patti bandhi hai bandhi rahne do
uske baare mein tum bhi bura sochna chhod do

geeli mitti ki khushboo mujhe sone deti nahin
mere baalon mein tum ungaliyaan pherna chhod do

उसको ज़िद से तो अच्छा नहीं रोकना छोड़ दो
उसकी मर्ज़ी है तुम उसपे ये फ़ैसला छोड़ दो

मैंने बस इतना पूछा था क्या देखते हो भला
मैंने ये कब कहा था मुझे देखना छोड़ दो

तुम मिलोगे नहीं तो मैं जीते जी मर जाऊँगी
बा-ख़ुदा ऐसी ख़ुशफ़हमियाँ पालना छोड़ दो

मेरी आँखों पे पट्टी बँधी है बँधी रहने दो
उसके बारे में तुम भी बुरा सोचना छोड़ दो

गीली मिट्टी की ख़ुशबू मुझे सोने देती नहीं
मेरे बालों में तुम उँगलियाँ फेरना छोड़ दो

- Tajdeed Qaiser
13 Likes

Deedar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Tajdeed Qaiser

As you were reading Shayari by Tajdeed Qaiser

Similar Writers

our suggestion based on Tajdeed Qaiser

Similar Moods

As you were reading Deedar Shayari Shayari