ab tajurba bhi kar liya padh li kitaab bhi | अब तजरबा भी कर लिया पढ़ ली किताब भी - Tanoj Dadhich

ab tajurba bhi kar liya padh li kitaab bhi
sab kuchh samajh gaya hoon haqeeqat bhi khwaab bhi

maine bana ke sabse rakhi kaam ke hain sab
mujhko charaagh jaanta hai aaftaab bhi

maine kaha tha tujhse zara intizaar kar
ab dekh ho gaya hoon na main kaamyaab bhi

jab door tum hue to qalam ko utha liya
varna to dost laaye the mere sharaab bhi

maine bhi kaafi kuchh diya hai is jahaan ko
jab free rahe khuda kare mera hisaab bhi

jo log maante nahin shaair tanoj ko
ab is ghazal se mil gaya unko jawaab bhi

अब तजरबा भी कर लिया पढ़ ली किताब भी
सब कुछ समझ गया हूँ हक़ीक़त भी ख़्वाब भी

मैंने बना के सबसे रखी काम के हैं सब
मुझको चराग़ जानता है आफ़ताब भी

मैंने कहा था तुझसे ज़रा इन्तिज़ार कर
अब देख हो गया हूँ न मैं कामयाब भी

जब दूर तुम हुए तो क़लम को उठा लिया
वरना तो दोस्त लाए थे मेरे शराब भी

मैंने भी काफ़ी कुछ दिया है इस जहान को
जब फ़्री रहे ख़ुदा करे मेरा हिसाब भी

जो लोग मानते नहीं शाइर 'तनोज' को
अब इस ग़ज़ल से मिल गया उनको जवाब भी

- Tanoj Dadhich
19 Likes

Duniya Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Tanoj Dadhich

As you were reading Shayari by Tanoj Dadhich

Similar Writers

our suggestion based on Tanoj Dadhich

Similar Moods

As you were reading Duniya Shayari Shayari