apni ghalti khud hi aa ke bataai hai | अपनी ग़लती ख़ुद ही आ के बताई है - Tanoj Dadhich

apni ghalti khud hi aa ke bataai hai
matlab seene par ik goli khaai hai

kharche das tarboo'z barabar hain apne
aur kamaai to keval ik raai hai

ham jaise to khaak uthaate hain sabki
aur koi hai jisne khaak udaai hai

hamne toote dil se achhe she'r kahe
ya'ni malbe se building banwaai hai

jiske nakhray jhel nahin paata koi
sabke ghar mein aisa ek jamaai hai

अपनी ग़लती ख़ुद ही आ के बताई है
मतलब सीने पर इक गोली खाई है

ख़र्चे दस तरबूज़ बराबर हैं अपने
और कमाई? तो केवल इक राई है

हम जैसे तो ख़ाक उठाते हैं सबकी
और कोई है जिसने ख़ाक उड़ाई है

हमने टूटे दिल से अच्छे शे'र कहे
या'नी मलबे से बिल्डिंग बनवाई है

जिसके नखरे झेल नहीं पाता कोई
सबके घर में ऐसा एक जमाई है

- Tanoj Dadhich
12 Likes

Ghar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Tanoj Dadhich

As you were reading Shayari by Tanoj Dadhich

Similar Writers

our suggestion based on Tanoj Dadhich

Similar Moods

As you were reading Ghar Shayari Shayari